गुरुवार, 19 मार्च 2009

जिन पाठकों ने मुझे अपना जन्‍म विवरण भेजा है ....


कई वर्षों से इंटरनेट की उपभोक्‍ता होने के बावजूद 2007 के जून तक हिन्‍दी में ब्‍लागिंग किए जाने के बारे में मुझे कोई जानकारी नहीं थी , पर जुलाई में कादम्बिनी के एक लेख को पढने के बाद अगस्‍त 2007 में ही मैने वर्डप्रेस में अपना ब्‍लाग बना लिया था। शुरू शुरू में पुराने आलेखों को ही संक्षिप्‍त कर इसमें पोस्‍ट कर दिया करती थी। वर्डप्रेस के आलेखों में अधिकतर कमेंट्स अपना भविष्‍य पूछनेवालों के ही होते थे , पर बहुत दुख के साथ कहना पड रहा है कि उन दिनो एक खास तरह के काम में इतनी व्‍यस्‍त थी कि शायद ही किसी का जवाब दे पायी। फिर फरवरी 2008 के बाद तो कुछ दिन दोनो बच्‍चों की बोर्ड की परीक्षाओं और अप्रैल से ही कुछ खास झंझटों में ऐसी उलझी कि जुलाई तक परिवार के चारो सदस्‍य अपना अपना काम छोडकर अनिश्चितता की स्थिति में इधर उधर भटकते रहें। इस समय तो पाठकों के प्रश्‍नों का जवाब दे पाना किसी भी हालत में संभव नहीं था।

चार महीनों बाद अगस्‍त में जब फिर से सामान्‍य जीवन जीना आरंभ किया , तो वर्डप्रेस से विदाई लेकर ब्‍लागस्‍पाट में अपना ब्‍लाग बनाया । वैसे सर्च इंजिनों की अभी तक कृपा है कि मेरे उस ब्‍लाग में इस नए ब्‍लाग की अपेक्षा अधिक पाठक आते हैं। कुछ दिनों से चल रही अनिश्चितता भरे वातावरण को झेलने से हुए तनाव को भूलने के लिए मैं अब इंटरनेट को अधिक समय देने लगी। सितम्‍बर से नवम्‍बर के दौरान मैने पाठकों के जिज्ञासा भरे तमाम प्रश्‍नो के जवाब देने आरंभ किए , हो सकता है , इक्‍के दुक्‍के मेरी निगाह से ओझल भी रह गए हों। पर दिसम्‍बर के बाद पुन: व्‍यस्‍तता काफी बढ गयी और दिसम्‍बर 2008 से अबतक मैं शायद ही किसी पाठक को जवाब दे पायी । हां, इस दौरान मुझे प्राप्‍त हुए पाठको के जन्‍म विवरणों को अवश्‍य मैने अपने साफ्टवेयर में अवश्‍य डाल दिया है और वे अभी तक मेरे साफटवेयर के डेटाबेस में सेव रह गए हैं। मेरे लिए जरूरी सारी गणनाएं कम्‍प्‍यूटर के स्‍क्रीन पर आ जाती हैं और उन्‍हें देखते हुए पाठकों के प्रश्‍नों का जवाब देना कठिन नहीं ,पर उन्‍हें खोलकर देखना , उसे कापी में नोट करना, पुन: विंडों को बंद कर जीमेल खोलकर सबको जवाब लिखना , समयाभाव को देखते हुए कर पाना बहुत मुश्किल है।


इसलिए उन पाठकों से मेरा अनुरोध है , जिन्‍होने भी मेरे जीमेल पते पर अपना जन्‍मविवरण भविष्‍य की जानकारी के लिए भेजा है , वे 20 मार्च से 22 मार्च के मध्‍य 11 बजे दिन से लेकर 10 बजे रात्रि तक मुझसे मेरे फोन पर बात कर लें। याहू पते पर मिले जन्‍म विवरणों को मैने अभी तक अपने साफ्टवेयर में नहीं डाला है , इसलिए उसमें अपना विवरण भेजने वाले संपर्क न ही करें तो अच्‍छा रहेगा। मेरा फोन नं है ... 06542255102 , क्‍योंकि 22 मार्च के बाद पुन: कुछ दिनों तक आपलोगों को समय दे पाना मेरे लिए मुश्किल होगा।

बुधवार, 18 मार्च 2009

पीपुल्‍स समाचार , भोपाल में प्रकाशित मेरे आलेख का लिंक

आखिर 30-32 घंटे का मानसिक हलचल कल अपनी पोस्‍ट डालने के दो चार घंटे के बाद ही समाप्‍त हो गया और मेरी यह जिज्ञासा थमी कि पीपुल्‍स समाचार वालों ने मेरे किस आलेख को प्रकाशित किया है , जब सुब्रह्मणियम जी की टिप्‍पणी के द्वारा मालूम हुआ कि 16 नहीं , 15 मार्च के रविवारीय परिशिष्‍टांक के पृष्‍ठ सं 8 पर मेरे आलेख ‘फलित ज्‍योतिष : विज्ञान या अंधविश्‍वास’ को प्रकाशित किया गया है। यह आलेख जनसामान्‍य की ज्‍योतिष के प्रति जिज्ञासा को ध्‍यान में रखते हुए दो चार वर्ष पूर्व ही मेरे द्वारा लिखा गया था और अभी तक मेरे कुछ चुनींदा आलेखों में से एक है। इसकी लंबाई की वजह से मैने अपने ब्‍लाग में इसे अबतक नहीं डाला था । इसलिए किसी अखबार में इसके प्रकाशित किए जाने और जनसामान्‍य तक मेरे विचार के पहुंचाए जाने से मुझे कितनी खुशी हुई होगी , इसका पाठ‍क अंदाजा लगा सकते हैं। हालांकि मेरे पिछले पोस्‍ट में आनेवाले दो विरोधाभासी कमेंट को देखते हुए विवादास्‍पद बन गया है कि इसके लिए अखबार के संपादक का शुक्रिया किया जाना चाहिए या उसकी भर्त्‍सना की जानी चाहिए।


दरअसल अक्‍तूबर 2008 में मैने यह आलेख अपने पिताजी के द्वारा चलाए जा रहे ब्‍लाग ‘फलित ज्‍योतिष : सच या झूठ’ में प्रकाशित किया था। चूंकि मेरे पिताजी ने अपनी पुस्‍तक ‘फलित ज्‍योतिष : कितना सच कितना झूठ’ को ब्‍लाग के माध्‍यम से जनसामान्‍य तक पहुंचाने के लिए ही यह ब्‍लाग शुरू किया था , क्‍योंकि बिल्‍कुल मौलिक चिंतन युक्‍त उनकी यह पुस्‍तक कई कई महीनों तक या एक एक वर्ष तक गंभीर विचार विमर्श के बाद अच्‍छे अच्‍छे प्रकाशकों के यहां से वापस लौट चुकी थी। इस ब्‍लाग में प्रकाशित किए जा रहे सारे आलेख लंबे थे , इसलिए मैने भी इस लंबे आलेख को उसी में डाल दिया था। पीपुल्‍स समाचार को मेरा यह आलेख पसंद आया। वैसे इसके कमेंट्स को देखा जाए तो मेरा यह आलेख भी विवादास्‍पद ही रहा है।
फलित ज्‍योतिष : सच या झूठ
इसके बावजूद पीपुल्‍स समाचार ने मेरे इस आलेख को पसंद किया , प्रकाशित किया , यह मुझे अच्‍छा लगा , मैं उम्‍मीद करूंगी कि आनेवाले समय में भी पीपुल्‍स समाचार के साथ ही साथ अन्‍य अखबार भी इस ब्‍लाग के अन्‍य आलेखों को प्रकाशित कर जनसामान्‍य में फैली ज्‍योतिषीय और धार्मिक भ्रांतियों को दूर करने में , जो कि हमारा मुख्‍य लक्ष्‍य है , हमारी मदद करेगा। अब आलेख के लेखक लेखिका होने के नाते यदि मैं एक ईमेल द्वारा सूचना और अखबार के कतरनों की अपेक्षा कर रही हूं , तो शायद यह गलत नहीं है। सुधी पाठकों को मेरी भावनाओं को भी समझना चाहिए।

मंगलवार, 17 मार्च 2009

भोपाल के ब्‍लागर भाईयों से विनम्र अनुरोध

कल भोपाल के ही एक ब्‍लागर भाई अनिल सौमित्रजी के द्वारा मुझे मात्र इतनी ही खबर मिली कि भोपाल से निकलनेवाले 16 मार्च के पीपुल्‍स समाचार में मेरा कोई आलेख प्रकाशित किया गया है। संपादकजी , चाहे जो भी हों , को मेरा आलेख अच्‍छा लगा और उन्‍होने अपने अखबार में प्रकाशित किया , यह तो मेरे लिए बहुत खुशी की बात है , क्‍योंकि ज्‍योतिषीय सिद्धांतों से संबंधित मेरे आलेख या पुस्‍तक भले ही संपादकों और प्रकाशकों द्वारा उनके पहल से छापे गए या मांगे जा रहे हों , पर सामान्‍य लोगों के लिए लिखे जाने वाले मेरे आलेखों के लिए संपादकों की अभी तक अधिक दिलचस्‍पी मैने नहीं देखी है और इसलिए ही मैने अपने विचारों को जनसामान्‍य तक पहुंचाने के लिए ब्‍लाग लिखना आरंभ किया है। ब्‍लाग लिखने से पहले मैं अपने सभी आलेख दिल्‍ली के कई फीचर्स को पोस्‍ट कर दिया करती थी और वे ही विभिन्‍न स्‍थानीय पत्रों में भिजवा दिया करते थे। कभी कभी ही देश के विभिन्‍न हिस्‍सों में रह रहे परिचितों के माध्‍यम से इस बात की सूचना मुझे उस दिन मिल पाती थी , अधिकांश समय मुझे तब ही पता चलता , जब एकाध सप्‍ताह में उन अखबारों की कतरनें मुझे मिल जाती थी । इसलिए भोपाल के पीपुल्‍स समाचार वालों ने मेरे आलेख को छापने से पहले मेरी अनुमति नहीं ली , यह भी मेरे लिए बहुत आपत्तिजनक बात नहीं , पर उन्‍हें कम से कम एक ईमेल कर मुझे खबर अवश्‍य करनी चाहिए थी।


अब कल से ही आधी अधूरी जानकारी मिलने के बाद मेरी जिज्ञासा बढती जा रही है , उन्‍होने किस लेख को प्रकाशित किया , किस शीर्षक से प्रकाशित किया , हूबहू प्रकाशित किया या कोई फेर बदल कर। आज मुझसे रहा नहीं गया तो यह पोस्‍ट करना आवश्‍यक समझ रही हूं। म प्र के के ब्‍लागर बंधुओ से , खासकर भोपाल में रहने वालों से मेरा विनम्र अनुरोध है कि वे मुझे इस संदर्भ में पूरी जानकारी देने की कृपा करें और यदि संभव हो तो अखबार के उस पृष्‍ठ का स्‍कैनिंग मुझे मेरे ईमेल पते (gatyatmakjyotish@gmail.com) पर भेज दें।

सोमवार, 16 मार्च 2009

टोर्च , घड़ी , कैलेंडर और गत्‍यात्‍मक ज्योतिष ( Astrology )

अंधेरे में चलनेवाले लगभग सभी राहगीर अपने गंतब्य पर पहुंच ही जाते हैं। बिना घड़ी पहने परीक्षार्थी परीक्षा दे ही सकते हैं। बिना कैलेण्डर के लोग वर्ष पूरा कर ही लेते हैं। किन्तु टॉर्च , घड़ी और कैलेण्डर के साथ चलनेवाले लोगों को ही यह अहसास हो सकता है कि उनका रास्ता कितना आसान रहा। वे पूरी अवधि में चिंतामुक्त रहें। इसी प्रकार का सहयोग गत्यात्मक ज्योतिष आपको प्रदान करता है।


अतिसामान्य व्यक्ति के लिए घड़ी , कैलेण्डर या ज्योतिष शौक का विषय हो सकता है , किन्तु जीवन के किसी क्षेत्र में उंचाई पर रहनेवाले व्यक्ति के लिए घड़ी और कैलेण्डर की तरह ही भविष्य की सही जानकारी की जरुरत अधिक से अधिक है। यह बात अलग है कि सही मायने में भविष्यद्रष्टा की कमी अभी भी बनीं हुई है। गत्यात्मक दशा पद्धति संपूर्ण जीवन के तस्वीर को घड़ी की तरह स्प्ष्ट बतलाने की कोशिश करती है। ग्रह उर्जा लेखाचित्र से यह स्पष्ट किया जा सकता है कि कब कौन सा काम किया जाना चाहिए। एक घड़ी की तरह ही फलित ज्योतिष की जानकारी भी समय की सही जानकारी प्राप्त करने का साधन मात्र नहीं , वरन् अप्रत्यक्षत: बहुत सारी सूचनाएं प्रदान करके समुचित कार्य करने की दिशा में बड़ी प्रेरणास्रोत है। लोगों को यह भ्रम हटाना चाहिए कि फलित ज्योतिष की आवश्यकता विपत्ति या मुसीबत में पड़े लोगों के लिए ही है।

जीवन के किसी क्षेत्र में उंचाई पर रहनेवाला हर व्यक्ति यह महसूस करता है कि महज संयोग के कारण ही वह इतनी उंचाई हासिल कर सका है , अन्यथा उससे भी अधिक परिश्रमी और विद्वान व्यक्ति संसार में भरे पड़े हैं , जिनकी पहचान भी नहीं बन सकी है। उस बड़ी चमत्कारी शक्ति के लिए फुरसत के समय में उनका प्रयास बना होता है। ऐसे लोगों को फलित ज्योतिष की जानकारी से कई समस्याओं को सुलझा पाने में मदद मिलती है , किन्तु इसके लिए अपने उत्तरदायित्व को समझते हुए समय निकालने की जरुरत है। अपने कीमती जीवनशैली में से समय निकालकर इस विद्या के अनुसार लिखे गए इस ब्‍लाग में प्रकाशित लेखों को पढ़कर ज्ञान प्राप्त करें .

रविवार, 15 मार्च 2009

‘सब सारहन एके तेरी देखा हथिन’

मेरे पापाजी ने अपने विद्यार्थी जीवन का , जब वे हाई स्‍कूल में पढ रहे थे , एक संस्‍मरण सुनाया था । कक्षा लगने ही वाली थी , सभी विद्यार्थी अपनी अपनी कक्षा में बैठ चुके थे। गेट बंद हो चुका था और कुछ छात्र देर होने के कारण जल्‍दी जल्‍दी गेट के बगल की सीढियों से एक एक कर अंदर जाने की कोशिश कर रहे थे । चाहे जिस उद्देश्‍य से भी एक बूढा स्‍कूल जा रहा हो , सीढी को जाम कर देने की वजह से कुछ बच्‍चे परेशान थे और उनमे से किसी शैतान बच्‍चे ने उस बूढे को कुछ कहकर चिढा दिया। चिढाकर वह तेजी से अपनी कक्षा की ओर बढ गया। बूढे ने गुस्‍से में तमतमाते हुए हेडमास्‍टर साहब के पास जाकर शिकायत की । हेडमास्‍टर साहब भी लडके को उसकी करनी का फल चखाना चाहते थे , पर समस्‍या थी , उस लडके को पहचानने की । बूढे ने कक्षा की ओर इशारा करते हुए बताया कि वह उसी कक्षा में गया है और देखने पर वे पहचान जाएंगे। मास्‍टर साहब ने तुरंत उस कक्षा के सारे बच्‍चों को बाहर निकालकर उन्‍हें एक कतार में खडा करवाया और उस बूढे से बच्‍चे को पहचानने को कहा। बूढे ने एक बार नहीं , दो या तीन बार चक्‍कर लगाते हुए कतार में खडे सबके चेहरों को गौर से देखा , पर यूनिफार्म में देखे उस बच्‍चे को इतने सारे यूनिफार्म वाले बच्‍चों के बीच पहचान पाना आसान न था। सफल न होने पर उस बूढे ने यहां बोली जानेवाली भाषा 'खोरठा' में भुनभुनाते हुए कहा ‘सब सारहन एके तेरी देखा हथिन’ यानि ‘सब साले एक ही तरह के दिखते हैं’



आज अचानक इस प्रसंग के याद आने का एक महत्‍वपूर्ण कारण है। कल अरविंद मिश्राजी ने अपने ब्‍लाग में इटली के प्रसिद्ध खगोलविज्ञानी Giovanni Virginio Schiaparelli की एक फोटोलगाकर पाठकों को उसे बूझने को दिया। मैने उनके बारे में कब पढा था , यह तो याद नहीं , पर मुझे यह फोटो बिल्‍कुल जानी पहचानी सी लगी। अभी कुछ दिन पहले जार्ज वेस्टिंगहाउस को पढ रही थी। मुझे ऐसा लगा कि ये जार्ज वेस्टिंगहाउस ही हैं , पर मैने अपनी याददाश्‍त के आधार पर इस पहेली का हल नहीं बताया। मैं गूगल के इमेज सर्च में गयी , वहां जार्ज वेस्टिंगहाउस का इमेज सर्च किया , उस इमेज को देखकर मैं आश्‍वस्‍त हुई और निश्चिंति से लिख दिया ‘जार्ज जार्ज वेस्टिंगहाउस हैं ये ...’ , पर बाद में जब अरविंद जी ने अपनी टिप्‍पणियों को प्रकाशित किया तो अधिकांश जगहों पर Giovanni Virginio Schiaparelli का नाम देखकर मैं चौंक गयी। जब गूगल के इमेज सर्च में उनको सर्च किया तो वही फोटो मिल गयी , जो अरविंद जी ने लगा रखी थी। उस बूढे की तरह मुझे भी कहना पड रहा है कि सब दाढी , मूंछ और बाल वाले एक ही तरह के दिखते हें। अब मुझे पता चला कि सिर्फ समयाभाव के कारण नहीं , वरन् अपनी पहचान को छुपाने के लिए भी हमारे ऋषिमुनियों से लेकर अभी हाल तक के दार्शनिकों , विचारकों को दाढी बाल बढाए रखने की आवश्‍यकता थी , ताकि कोई यदि उनके विचारों और दर्शनों से सहमत न भी हो तो उनका नुकसान न कर सकें। जब दाढी मूंछ और बाल से युक्‍त उनके चेहरे को पहचान ही नहीं पाएंगे तो भला नुकसान कैसे करेंगे ?

‘सब सारहन एके तेरी देखा हथिन’

मेरे पापाजी ने अपने विद्यार्थी जीवन का , जब वे हाई स्‍कूल में पढ रहे थे , एक संस्‍मरण सुनाया था । कक्षा लगने ही वाली थी , सभी विद्यार्थी अपनी अपनी कक्षा में बैठ चुके थे। गेट बंद हो चुका था और कुछ छात्र देर होने के कारण जल्‍दी जल्‍दी गेट के बगल की सीढियों से एक एक कर अंदर जाने की कोशिश कर रहे थे । चाहे जिस उद्देश्‍य से भी एक बूढा स्‍कूल जा रहा हो , सीढी को जाम कर देने की वजह से कुछ बच्‍चे परेशान थे और उनमे से किसी शैतान बच्‍चे ने उस बूढे को कुछ कहकर चिढा दिया। चिढाकर वह तेजी से अपनी कक्षा की ओर बढ गया। बूढे ने गुस्‍से में तमतमाते हुए हेडमास्‍टर साहब के पास जाकर शिकायत की । हेडमास्‍टर साहब भी लडके को उसकी करनी का फल चखाना चाहते थे , पर समस्‍या थी , उस लडके को पहचानने की । बूढे ने कक्षा की ओर इशारा करते हुए बताया कि वह उसी कक्षा में गया है और देखने पर वे पहचान जाएंगे। मास्‍टर साहब ने तुरंत उस कक्षा के सारे बच्‍चों को बाहर निकालकर उन्‍हें एक कतार में खडा करवाया और उस बूढे से बच्‍चे को पहचानने को कहा। बूढे ने एक बार नहीं , दो या तीन बार चक्‍कर लगाते हुए कतार में खडे सबके चेहरों को गौर से देखा , पर यूनिफार्म में देखे उस बच्‍चे को इतने सारे यूनिफार्म वाले बच्‍चों के बीच पहचान पाना आसान न था। सफल न होने पर उस बूढे ने यहां बोली जानेवाली भाषा 'खोरठा' में भुनभुनाते हुए कहा ‘सब सारहन एके तेरी देखा हथिन’ यानि ‘सब साले एक ही तरह के दिखते हैं’


आज अचानक इस प्रसंग के याद आने का एक महत्‍वपूर्ण कारण है। कल अरविंद मिश्राजी ने अपने ब्‍लाग में इटली के प्रसिद्ध खगोलविज्ञानी Giovanni Virginio Schiaparelli की एक फोटोलगाकर पाठकों को उसे बूझने को दिया। मैने उनके बारे में कब पढा था , यह तो याद नहीं , पर मुझे यह फोटो बिल्‍कुल जानी पहचानी सी लगी। अभी कुछ दिन पहले जार्ज वेस्टिंगहाउस को पढ रही थी। मुझे ऐसा लगा कि ये जार्ज वेस्टिंगहाउस ही हैं , पर मैने अपनी याददाश्‍त के आधार पर इस पहेली का हल नहीं बताया। मैं गूगल के इमेज सर्च में गयी , वहां जार्ज वेस्टिंगहाउस का इमेज सर्च किया , उस इमेज को देखकर मैं आश्‍वस्‍त हुई और निश्चिंति से लिख दिया ‘जार्ज जार्ज वेस्टिंगहाउस हैं ये ...’ , पर बाद में जब अरविंद जी ने अपनी टिप्‍पणियों को प्रकाशित किया तो अधिकांश जगहों पर Giovanni Virginio Schiaparelli का नाम देखकर मैं चौंक गयी। जब गूगल के इमेज सर्च में उनको सर्च किया तो वही फोटो मिल गयी , जो अरविंद जी ने लगा रखी थी। उस बूढे की तरह मुझे भी कहना पड रहा है कि सब दाढी , मूंछ और बाल वाले एक ही तरह के दिखते हें। अब मुझे पता चला कि सिर्फ समयाभाव के कारण नहीं , वरन् अपनी पहचान को छुपाने के लिए भी हमारे ऋषिमुनियों से लेकर अभी हाल तक के दार्शनिकों , विचारकों को दाढी बाल बढाए रखने की आवश्‍यकता थी , ताकि कोई यदि उनके विचारों और दर्शनों से सहमत न भी हो तो उनका नुकसान न कर सकें। जब दाढी मूंछ और बाल से युक्‍त उनके चेहरे को पहचान ही नहीं पाएंगे तो भला नुकसान कैसे करेंगे ?